वैष्णो देवी के बारे में 20 रोचक तथ्य | Vaishno Devi facts in Hindi

0
130 views

vaishno devi facts in hindi

वैष्णो देवी के बारे में रोचक तथ्य | Vaishno devi facts in hindi

1#. वैष्णों देवी मंदिर सबसे ज्यादा शक्तिशाली शक्तिपीठों में से एक माना जाता है।

2#. वैष्णों देवी मंदिर समुद्र तल से 6523 फीट की ऊंचाई पर स्थित है।

3#. वैष्णो देवी मंदिर हिन्दूयो की मान्यता के अनुसार, शक्ति को समर्पित पवित्रतम हिंदू मंदिरों में से एक है, जो भारत के जम्मू कश्मीर में वैष्णो देवी की पहाड़ी पर स्थित है।

4#. ऐसा कहा जाता है, कि इस गुफा में भैरव का शरीर मौजूद हैं। माँ वैष्णवी ने अपने त्रिशूल से भैरव का वध किया था।

5#. वैष्णो देवी मंदिर, जम्मू और कश्मीर राज्य के जम्मू जिले में कटरा नगर से 14  किलोमीटर पर पर्वत पर अवस्थित है।

6#. जम्मू के उत्तर में 61 किलोमीटर की दूरी पर समुद्र तट से 5200 फीट की ऊँचाई पर माँ की पवित्र गुफा स्थित है।

7#. माता वैष्णों देवी जी की यात्रा सारा वर्ष चलती रहती है। ग्रीष्म ऋतु के मई, जून और जुलाई के महीने ठीक होती है।

8#. वैष्णो देवी मंदिर के लिए 14 किलोमीटर की पैदल यात्रा करनी पड़ती है। जो कटरा से शुरू होती है।

9#. अगर आप पैदल चलने में असमर्थ है तो घोड़े, खच्चर, पालकी या पिट्ठू के सहारे भी पूरी यात्रा कर सकते हैं।

10#. समय कम है, या पैदल यात्रा करने में असमर्थ हैं तो हेलीकॉप्टर से भी मां के भवन तक पहुंचा जा सकता है।

Vaishno devi facts in hindi 11-20

11#. नजदीकी रेलवे स्टेशन जम्मू और कटरा दो हैं। देशभर के मुख्य शहरों से जम्मू रेल मार्ग के जरिए जुड़ा हुआ है। इसके अलावा वैष्णो देवी का बेस कैंप कटरा भी अब एक रेलवे स्टेशन बन गया है।

12#. मान्यतानुसार जिस स्थान पर माँ वैष्णो देवी ने भैरवनाथ का वध किया, वह स्थान ‘भवन’ के नाम से प्रसिद्ध है।

13#. मान्‍यता है कि माता ने इस गुफा में नौ महीने ठीक उसी प्रकार जैसे कोई शिशु अपनी मां के गर्भ में रहता है। इसलिए इस गुफा को गर्भजून कहते हैं।

14#. अगर आप वैष्णो देवी माता के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो आप https://www.maavaishnodevi.org/ वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं ।

15#. क्या आप जानते है मां वैष्णो देवी को बचपन में त्रिकुटा नाम से बुलाया जाता था। बाद में भगवान विष्णु के वंश से जन्म लेने के कारण वे वैष्णवी कहलाईं।

16#. मान्यतानुसार जिस स्थान पर माँ वैष्णो देवी ने भैरवनाथ का वध किया, वह स्थान ‘भवन’ के नाम से प्रसिद्ध है।

17#. भैरवनाथ का वध करने पर उसका शीश भवन से 3 किमी दूर जिस स्थान पर गिरा, आज उस स्थान को ‘भैरोनाथ के मंदिर’ के नाम से जाना जाता है।

18#. कहा जाता है कि अपने वध के बाद भैरवनाथ को अपनी भूल का पश्चाताप हुआ और उसने देवी से क्षमादान की भीख माँगी।

19#. वैष्णो देवी ने भैरवनाथ को वरदान देते हुए कहा कि “मेरे दर्शन तब तक पूरे नहीं माने जाएँगे, जब तक कोई भक्त मेरे बाद तुम्हारे दर्शन नहीं करेगा।” यह मंदिर, वैष्णोदेवी मंदिर के समीप अवस्थित है।

20#. दोस्तों  माता वैष्णो देवी का स्थान हिंदुओं का एक प्रमुख तीर्थ स्थल है, जहाँ सम्पूर्ण भारत और विश्वभर से लाखों श्रद्धालु दर्शन के लिए आते हैं।

Popular Posts –

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here