भारत रत्न के बारे में 18 रोचक बाते | Bharat Ratna Facts in Hindi

0
280

bharat ratna facts in hindi

भारत रत्न के बारे में रोचक बाते | Bharat Ratna Facts in Hindi

1. यह  कला ,साहित्य विज्ञान या बड़े पैमाने पर जन सेवा में उत्कृष्ट कार्य करने के लिए  दिया जाता है जो देश का सबसे बड़ा राष्ट्रीय पुरस्कार है।

2.  इसकी शुरुआत 1954 ईस्वी में हुई थी यह 26 जनवरी को भारत के राष्ट्रपति के द्वारा दिया जाती है।

3. भारत रत्न एकमात्र ऐसा पुरस्कार है जिससे वरीयता सूची में स्थान दिया गया है।

4. जनता पार्टी द्वारा इस पुरस्कार को 1977 में बंद कर दिया गया था लेकिन 1980 में कांग्रेस सरकार ने इसे फिर से शुरू किया था।

5. 1980 में सर्वप्रथम मदर टेरेसा ने यह पुरस्कार प्राप्त किया।

6.  मरणोपरांत सर्वप्रथम लाल बहादुर शास्त्री को भारत रत्न से सम्मानित किया गया था।

7.  इस सम्मान की स्थापना 2 जनवरी 1954 में भारत के तत्कालीन राष्ट्रपति श्री राजेंद्र प्रसाद द्वारा की गई थी।

8. पहला भारत रत्न का सम्मान देश के दूसरे राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन को 1954 में प्रदान किया गया था।

9. सचिन तेंदुलकर को ‘भारत रत्न’ से नवाजा गया, वो देश का सर्वोच्च नागरिक सम्मान पाने वाले सबसे कम उम्र के शख्स बन गए।

10. आपको बता दू की,प्रारम्भ में इस सम्मान को मरणोपरांत देने का प्रावधान नहीं था, यह प्रावधान 1955 में बाद में जोड़ा गया तत्पश्चात् 14 व्यक्तियों को यह सम्मान मरणोपरांत प्रदान किया गया।

Facts about bharat ratna In Hindi 11-20

11. एक वर्ष में अधिकतम तीन व्यक्तियों को ही भारत रत्न दिया जा सकता है।

12.  इस सम्मान के पदक का डिजाइन 34 मिमि गोलाकार स्वर्ण मैडल था जिसमें सामने सूर्य बना था, ऊपर हिन्दी में भारत रत्न लिखा था और नीचे पुष्प हार था और पीछे की तरफ़ राष्ट्रीय चिह्न और मोटो था।

13. गैर-भारतीयों, पाकिस्तान के राष्ट्रीय खान अब्दुल गफ्फार खान और दक्षिण अफ्रीका के पूर्व राष्ट्रपति नेल्सन मंडेला को प्रदान किया गया ।

14. 25 जनवरी 2019 को, सरकार ने सामाजिक कार्यकर्ता नानाजी देशमुख (मरणोपरांत), गायक-संगीत निर्देशक भूपेन हजारिका (मरणोपरांत) और भारत के पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को पुरस्कार देने की घोषणा की।

15. 1992 में नेताजी सुभाषचंद बोस को भारत रत्न से मरणोपरान्त सम्मानित किया गया था लेकिन उनकी मृत्यु विवादित होने के कारण पुरस्कार के मरणोपरान्त स्वरूप को लेकर प्रश्न उठाया गया था इसीलिए भारत सरकार ने यह सम्मान वापस ले लिया।

16. राष्ट्र का सर्वोच्च सम्मान में  लिंग,नस्ल ,क्षेत्र,भाषा,जाति,धर्म आदि पर आधारित नहीं होगा।

17. 2014 में  यह पुरुस्कार मदन मोहन  मालवीय और माननीय अटल विहारी जी वाजपई जी को दिया गया था ।

18. भारत रत्न पाने वालो को ,जीवन भर आयकर से छूट और जीवन भर एयर इंडिया और भारतीय रेलवे  में प्रथम श्रेणी में मुफ्त यात्रा,संसद की बैठको और सत्र में भाग लेने की अनुमति,कैबिनेट रैंक के बराबर की योगिता मिलती है ।

Related Facts –

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here