प्लूटो के बारे में 20 रोचक तथ्य | Pluto Facts In hindi

0
224 views

pluto facts in hindi

प्लूटो के बारे में रोचक तथ्य | Pluto Facts In hindi 

1#. प्लूटो गृह की खोज 1930 में क्लाइड टॉम्बॉ द्वारा की गई थी।

2#. प्लूटो के अस्तित्व के संकेत पहली बार एक अमेरिकी खगोल विज्ञानी, पेरिवल लोवेल ने खोजे थे। उन्होंने देखा कि यूरेनस और नेप्च्यून में अजीब कक्षीय विचलन हैं, जो सीधे यह सुझाव देते हैं कि नेप्च्यून से परे कुछ ऐसा था जो एक गुरुत्वाकर्षण टग को बढ़ा रहा था।

3#. लोवेल ने 1915 में इस अज्ञात वस्तु के स्थान की भविष्यवाणी की, लेकिन इससे पहले कि वह वस्तु का पता लगा पाता, उसकी मृत्यु हो गई।

4#. 15 साल बाद वस्तु की खोज आखिरकार क्लाइड टॉम्बो द्वारा की गई थी जो कि लोवेल और कुछ अन्य खगोलविदों द्वारा की गई भविष्यवाणियों का उपयोग करके की गई थी। उन्होंने लोवेल ऑब्जर्वेटरी से इस खगोलीय पिंड की खोज की।

5#. प्लूटो कोई भी खगोल विज्ञानी या वैज्ञानिक समुदाय नहीं था जिसने इस खगोलीय पिंड का नाम दिया था, बल्कि यह 11 साल की लड़की बर्नी थी, जो कि नाम का सुझाव देती थी। बर्नी ने अपने दादा को सुझाव दिया कि शरीर को अपना नाम अंडरवर्ल्ड के रोमन देवता से प्राप्त करना चाहिए और इसका नाम हेड्स रखना चाहिए। प्लूटो वास्तव में पाताल का दूसरा नाम है।

6#. र्नी के दादा ने लोवेल ऑब्जर्वेटरी को संदेश दिया और ऑब्जेक्ट का नाम प्लूटो रखा गया। दिलचस्प बात यह है कि प्लूटो नाम में भी पेरिवल लॉवेल के शुरुआती नाम शामिल हैं।

7#. वैज्ञानिक के अनुसार प्लूटो के आकार के बारे में निश्चित नहीं हैं क्योंकि पृथ्वी से इसकी दूरी बहुत अधिक है। वैज्ञानिकों का अनुमान है कि यह पृथ्वी के चंद्रमा की चौड़ाई 2/3 है या पृथ्वी के व्यास के 1/5 वें हिस्से से कम है।

8#. वैज्ञानिकों का अनुमान है कि प्लूटो का मूल पथरीला है और इसका मैंटल पानी की बर्फ से बना है। वैज्ञानिकों के अनुसार, प्लूटो की सतह को नाइट्रोजन ठंढ और मीथेन बर्फ के साथ लेपित किया जा सकता है।

9#. हबल स्पेस टेलीस्कोप ने पाया कि प्लूटो की पपड़ी पर जटिल कार्बनिक अणु मौजूद हो सकते हैं। वैज्ञानिकों का यह भी अनुमान है कि बर्फीले पपड़ी के नीचे, जमे हुए मीथेन और नाइट्रोजन भी मौजूद हो सकते हैं।

10#. प्लूटो की कक्षा बिल्कुल भी गोलाकार नहीं है। यह सनकी है। इसका सीधा सा अर्थ है कि ऑब्जेक्ट की कक्षा अक्सर नेप्च्यून की कक्षा के अंदर ले जाती है और सूर्य से इसकी दूरी समय-समय पर काफी भिन्न होती है।

Amazing facts about pluto in hindi 11-15

11#. जानकर आपको आश्चर्य होगा प्लूटो ग्रह का 1 साल (सूर्य की परिक्रमा करने की अवधि) पृथ्वी के 246.04 साल के बराबर होता है।

12#. प्लूटो सूर्य से 587 करोड 40 लाख किलोमीटर की दूरी पर स्थित है

13#. प्लूटो  का व्यास 2372 किलोमीटर है जो की अपने आप में एक बहुत बड़ा क्षेत्रफल है।

14#. प्लूटो का द्रव्यमान 13050 अरब किलोग्राम है।

15#. आपको मालूम होगा वर्तमान में प्लूटो को 24 अगस्त 2006 में अंतरराष्ट्रीय खगोल संगठन (IAU) ने ग्रहों के वर्ग से निकाल दिया है और इससे “बौने ग्रह” का दर्जा दिया है।

16#. प्लूटो का एक तिहाई हिस्सा पानी है। यह पानी बर्फ के रूप में है जो पृथ्वी के सभी महासागरों की तुलना में 3 गुना ज्यादा है, शेष दो तिहाई चट्टाने हैं। प्लूटो की सतह बर्फ से ढकी हुई है, इसमें कई पर्वत श्रृंखलाएं और गहरे अँधेरे गड्ढे अवस्थित है।

Interesting facts about pluto in hindi 16-20

17#. प्लूटो तक पहुंचने में सूरज की रोशनी को लगभग पांच घंटे लगते हैं। जबकि इसे पृथ्वी तक पहुँचने में आठ मिनट लगते हैं।

18#. दरअसल pluto का orbit कुछ इस तरह है की यह सूरज से सबसे दूर भी जा सकता और इसके नजदीक भी आ सकता है।

19#. प्लूटो से आकाश इतना अँधेरा दिखाई देता है कि आप यहाँ से दिन में भी तारे देख सकते हैं।

20#. प्लूटो द्वारा सूर्य से बनाए रखने की औसत दूरी 5,906,380,000 किमी या 3,670,050,000 मील है, जो पृथ्वी की औसत दूरी सूर्य से 39.482 गुना है।

 

संबंधित रोचक तथ्य – 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here