स्वेज नहर के बारे में 16 रोचक बाते | Swej Nahar Facts In Hindi

0
343 views

swej nahar facts in hindi

स्वेज नहर के बारे में रोचक बाते | Swej Nahar Facts In Hindi

1. स्वेज नहर मिस्र में एक कृतिम समुद्री स्तरीय जलमार्ग है जो  भूमध्य सागर को लाल सागर से जोड़ती है ।

2. इसके निर्माण का कार्य 1854 में एक फ्रांसिसी इंजीनियर फर्दीनन्द-द – लेपेप्स को सौंपा गया था।

3. इस नहर की लंबाई 168 किलोमीटर और औसत गहराई 16.15 मीटर अधिकतम चौड़ाई 365 मीटर एवं न्यूनतम चौड़ाई 60 मीटर है ।

4. स्वेज नहर के उत्तरी प्रवेश द्वार पर भूमध्य सागर की ओर (पोर्ट सईद) और दक्षिण प्रवेश द्वार पर यानी लाल सागर की ओर (फोर्ट स्वेज) स्थित है ।

5. स्वेज नहर के उत्तरी भाग में लिटिल झील और मध्य भाग में टीमसा, दक्षिणी भाग में ग्रेट बिटर झील स्थित है जो खारे पानी की झीले हैं ।

6. स्वेज नहर के पश्चिमी किनार पर  इस्माइलिया नगर है 1956 ईस्वी में मिश्र द्वारा इस नहर का राष्ट्रीयकरण किया गया था ।

7. स्वेज नहर मार्ग से पारस की खाड़ी के  देशों से खनिज तेल तथा भारत और अन्य एशियाई से अभ्रक, लोहा इस्पात ,चाय ,जूट ,कपास आदि का आयात निर्यात किया जाता था ।

8. इस नहर के कारण  यूरोप से एशिया पूर्व अफ्रीका का रेल मार्ग खुल गया  और इससे 6,000 मिल की दूरी की बचत हो गई इराक ,भारत, अफ्रीका, पाकिस्तान  ,न्यूजीलैंड  आदि देशों के निर्यात शुरू हुआ।

9. इस नहर का प्रबंधन पहले स्वेज  कैनाल कंपनी करती थी  जिसमे आधे शेयर  तुर्की मिस्र और आधे फ्रांस देशी के थे।

10. एशिया और यूरोप के बीच माल  लेकर जाने वाला पनामा के ध्वज वाला द- एवरगिवन जहाज स्वेज नहर के पास मंगलवार को फस गया था जो निकाल लिया गया जिसमे करीब हर  घंटे में 3 हजार करोड़ का नुकसान हो रहा था।

Swej nahar facts in hindi

11. फोर्ट सईद मिस्र के उत्तर पूर्वी भाग में स्थित है इसकी जनसंख्या 6 लाख है  और यह  नगर 1741 में बसाया गया था ।

12. स्वेज नहर में यातायात कॉन्वॉय (सार्थवाह) के रूप में होता है यहा पर   प्रतिदिन तीन कॉन्वॉय चलते हैं,

जिसमे दो उत्तर से दक्षिण की और  एक दक्षिण से उत्तर की तरफ चलते है ,  इस नहर की यात्रा का समय 12 से 16 घंटों का होता है।

13.इस नहर की लम्बाई पनामा नहर की लम्बाई से दुगुनी होने के कारण  भी इसमें पनामा नहर के खर्च का 1/3 धन ही लगा है।

14. 1947 ई. में स्वेज कैनाल कंपनी और मिस्र सरकार के बीच यह समझौता हुआ कि कंपनी के साथ 99 वर्ष का पट्टा रद्द हो जाने पर इसका अधिकार  मिस्र सरकार के हाथो में हा जाएगा।

15. स्वेज नहर जलमार्ग में जलयान 12 से 14 किलोमीटर प्रति घंटे की गति से चलते है क्योंकि  इसमें तेज गति से चलने पर नहर के किनारे टूटने का भय बना रहता है।

16. ब्रिटेन और फ्रांस द्वारा मिस्र पर किया गया आक्रमण स्वेज संकट कहलाता है। यह आक्रमण स्वेज नहर पर पश्चिमी देशों का नियंत्रण  स्थापित करने तथा मिस्र के राष्ट्रपति नासिर को सत्ता से हटाने के उद्देश्य से किया गया था।

 

Related Facts –

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here